Chicago of America स्कूल में बच्चों को मुफ्त दिया जाएगा कंडोम, 5वीं क्लास के बच्चों के लिए भी होगा उपलब्ध, जाने पूरी खबर - Politics news of India | Current politics news | Politics news from India | Trending politics news,India News (भारत समाचार): India News,world news, India Latest And Breaking News, United states of amerika, united kingdom

.

Sunday, July 11, 2021

Chicago of America स्कूल में बच्चों को मुफ्त दिया जाएगा कंडोम, 5वीं क्लास के बच्चों के लिए भी होगा उपलब्ध, जाने पूरी खबर

यहां स्कूल में बच्चों को मुफ्त दिया जाएगा कंडोम, 5वीं क्लास के बच्चों के लिए भी होगा उपलब्ध

अमेरिका के शिकागो के प्राइवटे स्कूलों में जब अगले महीने बच्चे लौटेंगे तो यहां उन्हें कंडोम दिया जाएगा। गर्भनिरोधक और सुरक्षित यौन संबंध के इस साधन को स्कूल में उपलब्ध कराया जा रहा है ताकि जिन्हें इसकी जरूरत हो वे इस्तेमाल कर सकें। यहां के कई स्कूलों में स्टूडेंट्स को कंडोम मुहैया कराए जाने की शुरुआत की गई है। यह गर्भनिरोधक पांचवीं क्लास तक के बच्चों को दिया जा रहा है, जिसको लेकर विवाद भी हो रहा है।

शिकागो सनटाइम्स की एक एक रिपोर्ट के मुताबिक, महामारी के बाद अगले महीने पहली बार जब स्कूल खुलेंगे तो बच्चों के लिए स्कूल में कई तरह के सामान उपलब्ध होंगे, जो पहले नहीं दिए जाते थे। अब उन्हें हैंड सैनिटाइजर्स, वाइप्स, मास्क के साथ थर्मामीटर, एयर प्यूरिफाइयर्स दिए जाएंगे। इसके अलावा शिकागो के सभी प्राइवेट स्कूलों में कंडोम और लड़कियों के लिए सेनेटरी पैड भी दिए जाएंगे।

दरअसल, पिछले साल दिसंबर में शिकागो प्राइवेट स्कूल बोर्ड ऑफ एजुकेशन ने नई नीति पारित की थी। इसमें प्रावधान किया गया था कि सभी स्कूलों को विद्यार्थियों को मुफ्त कंडोम और सेनेडरी पैड उपलब्ध कराना होगा। ये सामान पांचवीं और इससे ऊपर के सभी क्लास के बच्चों के लिए उपलब्ध होंगे। इसे सेक्स एजुकेशन का हिस्सा भी बताया गया है। स्कूल में पढ़ने वाले कई बच्चों के अभिभावकों ने इस कदम का विरोध भी किया है और कहा है कि इतने छोटे बच्चों को इन साधनों के बारे में बताने की आवश्यकता नहीं है।

यह कदम ऐसे समय पर उठाया गया है जब हाल ही में मैनहट्टन के प्राइवेट स्कूल में बच्चों के लिए 'पोर्न साक्षरता' क्लास का आयोजन किया गया था। गौरतलब है कि दुनियभार में इस समय स्कूली पाठ्यक्रम में यौन शिक्षा को शामिल किया जा रहा है। विशेषज्ञ बढ़ती उम्र के बच्चों के लिए इसे आवश्यकत बताते हैं, क्योंकि किशोरो में तेजी से शारीरिक और मानसिक बदलाव होते हैं और इसके लिए उन्हें सही सलाह और शिक्षा की आवश्यकता होती है।