अखिलेश को आदर करना नहीं आता, मुलायम का बेटा होना ही उनकी एकमात्र उपलब्धि - Politics news of India | Current politics news | Politics news from India | Trending politics news,India News (भारत समाचार): India News,world news, India Latest And Breaking News, United states of amerika, united kingdom

.

Tuesday, January 14, 2020

अखिलेश को आदर करना नहीं आता, मुलायम का बेटा होना ही उनकी एकमात्र उपलब्धि

भारतीय जनता पार्टी की आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव पर निशाना साधा है. अमित मालवीय ने कहा, 'अखिलेश की सबसे बड़ी उपलब्धि मुलायम सिंह जी का पुत्र होना है... पिता के नाम पर मुख्यमंत्री तो बन गए लेकिन शालीनता, लोगों के कैसे पेश आया जाता है और उम्रदराज लोगों से कैसे व्यवहार करना है, ये सब सीखना बाकी है. पर जिसने अपने पिता का आदर ना किया हो उससे क्या उम्मीद की जा सकती है?' अमित मालवीय का यह बयान अखिलेश के उस बयान के बाद आया है जिसमें वो एक डॉक्टर को यह कहते दिखे कि तुम छोटे कर्मचारी हो भाग जाओ यहां से. दरअसल, अखिलेश यादव कन्नौज बस हादसे के पीड़ितों से मिलने के लिए अस्पताल पहुंचे थे. वहां पर जब हादसे के बारे में उन्होंने जानकारी मांगी तो पीड़ित के पास खड़े डॉक्टर ने घटना के बारे में जानकारी देनी चाही. तभी अखिलेश यादव ने उन्हें रोका और कहा, 'आप सरकारी कर्मचारी हैं, बहुत छोटे कर्मचारी हैं. भागो यहां से, बाहर निकलो.'

मुलायम का बेटा होना ही उनकी एकमात्र उपलब्धि

भारतीय जनता पार्टी की आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव पर निशाना साधा है. अमित मालवीय ने कहा, 'अखिलेश की सबसे बड़ी उपलब्धि मुलायम सिंह जी का पुत्र होना है... पिता के नाम पर मुख्यमंत्री तो बन गए लेकिन शालीनता, लोगों के कैसे पेश आया जाता है और उम्रदराज लोगों से कैसे व्यवहार करना है, ये सब सीखना बाकी है. पर जिसने अपने पिता का आदर ना किया हो उससे क्या उम्मीद की जा सकती है?' अमित मालवीय का यह बयान अखिलेश के उस बयान के बाद आया है जिसमें वो एक डॉक्टर को यह कहते दिखे कि तुम छोटे कर्मचारी हो भाग जाओ यहां से. दरअसल, अखिलेश यादव कन्नौज बस हादसे के पीड़ितों से मिलने के लिए अस्पताल पहुंचे थे. वहां पर जब हादसे के बारे में उन्होंने जानकारी मांगी तो पीड़ित के पास खड़े डॉक्टर ने घटना के बारे में जानकारी देनी चाही. तभी अखिलेश यादव ने उन्हें रोका और कहा, 'आप सरकारी कर्मचारी हैं, बहुत छोटे कर्मचारी हैं. भागो यहां से, बाहर निकलो.'