Delta plus variant :- अमेरिका में डेल्टा वेरिएंट का कहर, 14 राज्यों में कोरोना से होने वाली मौतों में 50 प्रतिशत का इजाफा - Politics news of India | Current politics news | Politics news from India | Trending politics news,India News (भारत समाचार): India News,world news, India Latest And Breaking News, United states of amerika, united kingdom

.

Monday, August 30, 2021

Delta plus variant :- अमेरिका में डेल्टा वेरिएंट का कहर, 14 राज्यों में कोरोना से होने वाली मौतों में 50 प्रतिशत का इजाफा

अमेरिका में कोरोना वायरस महामारी का कहर लगातार बढ़ता ही जा रहा है। डेल्टा वेरिएंट के चलते पिछले हफ्ते 42 अमेरिकी राज्यों में संक्रमण से मौतों की दर में काफी इजाफा देखने को मिला है। वहीं 14 राज्यों में पिछले एक हफ्ते में कोरोना से होने वाले मौतों की संख्या 50 फीसदी बढ़ गई है।

जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी के अनुसार, 28 राज्यों में मौतों की संख्या में 10 फीसदी की वृद्धि देखने को मिली है। अलबामा सबसे ज्यादा प्रभावित राज्यों में से एक है। अलबामा में गुरुवार को 50 मौतें हुईं। वहीं पिछले दो से तीन हफ्तों में मौतों की संख्या यहां दोहरे अंकों में देखी गई है। पिछले हफ्ते अलबामा में 5,571 बच्चे संक्रमित हुए। हालांकि अभी तक यह पता नहीं चल सका कि बच्चे किसके संपर्क में आने संक्रमित हुए हैं। राज्य में कोरोना संक्रमण दर 23 फीसदी है जो कि काफी चिंताजनक है। यह अमेरिका में सबसे ज्यादा है।

शव रखने तक की जगह नहीं

अलबामा के स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. स्कॉट हैरिस ने बताया कि राज्य में कोरोना संक्रमितों के अस्पताल में भर्ती होने की दर लगातार बढ़ रही है। हैरिस ने कहा कि यहां इतने लोग मर रहे हैं कि शव रखने तक की जगह नहीं है। महामारी शुरू होने के बाद पहली बार राज्य ने अपने चार रेफ्रिजेरेटेड ट्रेलरों में से दो को सक्रिय कर दिया है। ऐसे तब किया जाता है जब बड़े पैमाने पर किसी घटना के कारण मौतें हो जाएं।

अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी

अमेरिका के कई अस्पतालों में भी ऑक्सीजन के साथ बेड और स्टॉफ की कमी देखने को मिल रही है। फ्लोरिडा, दक्षिण कैरोलिना, टेक्सास और लुइसियाना में के अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी हो गई है। वहीं कुछ जगहों पर यह खत्म होने की कगार पर है। विशेषज्ञों ने बताया कि कोविड के बढ़ते मामलों के चलते ऑक्सीजन की मांग में वृद्धि हुई है। वहीं कई अस्पतालों में इसकी भारी कमी देखने को मिल रही है।