मोदी की वापसी-370 की विदाई: 2019 की 12 घटनाएं जिन्होंने बदली देश की राजनीति - Politics news of India | Current politics news | Politics news from India | Trending politics news,India News (भारत समाचार): India News,world news, India Latest And Breaking News, United states of amerika, united kingdom

.

Thursday, December 12, 2019

मोदी की वापसी-370 की विदाई: 2019 की 12 घटनाएं जिन्होंने बदली देश की राजनीति

लोकसभा चुनाव में ऐतिहासिक जीत हासिल कर नरेंद्र मोदी एक बार फिर देश के प्रधानमंत्री बने और राजनीतिक विरोधियों को धराशायी कर दिया. चुनाव जीतने के बाद भारतीय जनता पार्टी ने अपने कोर एजेंडे को लागू किया और जम्मू-कश्मीर, राम मंदिर जैसे मसलों पर काम शुरू किया.
2019 की 12 घटनाएं जिन्होंने बदली देश की राजनीति
साल 2019 राजनीतिक नजरिए से ऐतिहासिक साल रहा. ये चुनावी साल था ऐसे में पहले महीने से लेकर आखिरी तक ऐसी कई राजनीतिक घटनाएं रहीं जिन्होंने देश नहीं दुनिया पर असर डाला. लोकसभा चुनाव में ऐतिहासिक जीत हासिल कर नरेंद्र मोदी एक बार फिर देश के प्रधानमंत्री बने और राजनीतिक विरोधियों को धराशायी कर दिया. चुनाव जीतने के बाद भारतीय जनता पार्टी ने अपने कोर एजेंडे को लागू किया और जम्मू-कश्मीर, राम मंदिर जैसे मसलों पर काम शुरू किया.

ना सिर्फ मोदी सरकार के लिहाज बल्कि कांग्रेस के लिए भी ये साल कई मायनों वाला रहा. गांधी परिवार की मौजूदा पीढ़ी की एक और नेता प्रियंका गांधी की राजनीति में एंट्री हुई. लोकसभा चुनाव में हार के बाद राहुल गांधी ने पद से इस्तीफा दे दिया. ऐसी और भी कई बड़ी राजनीति घटनाएं रहीं, जिन्होंने इस साल कुछ ऐसा किया जो हमेशा राजनीतिक महत्व रखेगा. ऐसे ही मुद्दों पर नज़र डालिए..

1. सत्ता के महानायक नरेंद्र मोदी

2019 चुनावी साल रहा. अप्रैल से मई तक चले लोकसभा चुनाव में एक बार फिर राजनीतिक विरोधियों को पछाड़ते हुए नरेंद्र मोदी सबसे बड़े नेता बनकर उभरे और फिर अपने दम पर चुनाव जीत लिया. 2018 में दिसंबर में मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान के नतीजों ने भाजपा को झटका दिया था ऐसे में 2019 की शुरुआत भाजपा के लिए शानदार नहीं थी. लेकिन नरेंद्र मोदी ने एक बार फिर चुनावी करिश्मे और जोड़ीदार अमित शाह की रणनीति के दम पर विरोधियों को गलत साबित किया.

23 मई को आए नतीजों से पहले जितने भी सर्वे आए उसमें भाजपा बहुमत से दूर थी, लेकिन जब नतीजे आए तो हर कोई हैरान हो गया. भाजपा ने अकेले दम पर 300 का आंकड़ा पार किया, NDA 350 से अधिक पहुंच गया. नरेंद्र मोदी एक ऐसी गैर-कांग्रेसी सरकार के प्रधानमंत्री बने जो लगातार दो बार बहुमत के साथ सत्ता में आई. राफेल विमान के दाग, अर्थव्यवस्था के बुरे हार, नोटबंदी समेत कई ऐसे मुद्दों को पछाड़ नरेंद्र मोदी ने कुछ ऐसा माहौल बनाया कि पूरा चुनाव का मुद्दा ही बदल गया और माहौल मोदी बनाम विपक्ष की तरह बन गया. जिसमें नरेंद्र मोदी की महाजीत हुई

2. जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 का हटना

देश की आज़ादी से लेकर 2019 तक जम्मू-कश्मीर का मुद्दा देश में सबसे ऊपर रहा. जब जम्मू-कश्मीर का विलय किया गया, तो कुछ शर्तें लागू थीं जिनमें अनुच्छेद 370 के तहत घाटी को कुछ विशेषाधिकार दिए गए. लेकिन नरेंद्र मोदी 2.0 ने अपने कार्यकाल के पहले ही लोकसभा सत्र में इस मुद्दे पर विजय पा ली. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह 5 अगस्त को लोकसभा में एक प्रस्ताव लेकर आए, जिसमें जम्मू-कश्मीर से 370 का हटना, राज्यों का बंटवारा और केंद्रशासित प्रदेश बनाने का प्रस्ताव था.

5 अगस्त को बिल पेश करने से पहले अमरनाथ यात्रा को रोका गया, जम्मू-कश्मीर में फोन-इंटरनेट को बंद कर दिया गया और राजनेताओं को हिरासत में लिया गया. घाटी में सुरक्षा बढ़ोतरी के साथ ही राजनीतिक हलचल बढ़ी, विपक्ष ने सरकार पर निशाना साधा लेकिन किसी को खबर नहीं लगी कि क्या होने वाला है. लोकसभा में सरकार के पास बहुमत था लेकिन राज्यसभा में बहुमत नहीं था, इसके बावजूद भाजपा ने इस बिल को दोनों सदनों में आसानी से पास करवाया. 31 अक्टूबर, 2019 से जम्मू-कश्मीर, लद्दाख अलग-अलग केंद्रशासित प्रदेश बन गए. भाजपा अबतक जिसे जवाहर लाल नेहरू की गलती मानकर कांग्रेस पर दोष लगाती आई है.

3. अमित शाह का चुनाव लड़ना

लोकसभा चुनाव 2019 में भारतीय जनता पार्टी ने कई ऐसे दांव चले जो चौंकाने वाले थे. इनमें से सबसे बड़ा था पार्टी के अध्यक्ष और चाणक्य माने जाने वाले अमित शाह का गांधीनगर से चुनाव लड़ना. यह सीट अभी तक बीजेपी के लौह पुरुष लालकृष्ण आडवाणी की थी, लेकिन इस बार पार्टी ने उन्हें टिकट नहीं दिया और उनकी जगह अमित शाह ने चुनाव लड़ा. अमित शाह लाखों वोटों के अंतर से चुनाव जीतकर आए, इससे पहले राज्यसभा के सांसद थे. लेकिन अब वह सीधा लोकसभा में आए और मोदी 2.0 में गृह मंत्री बने. गृह मंत्री का पद संभालने के बाद अमित शाह ने कई काम किए जिसमें 370 को हटाना, CAB लागू करना शामिल है. बतौर सांसद शाह लोकसभा और राज्यसभा में अपनी उपस्थिति दर्ज कराते हैं और सदन में विपक्ष पर पूरी तरह हावी रहते हैं.

4. अमेठी में राहुल गांधी की हार

कांग्रेस ने 2014 और 2019 का चुनाव राहुल गांधी को आगे रखकर लड़ा लेकिन दोनों ही बार कांग्रेस को बुरी हार का सामना करना पड़ा. इस बार यह हार और भी बुरी थी क्योंकि खुद अध्यक्ष रहते हुए राहुल गांधी अपनी पारंपरिक सीट अमेठी से चुनाव हार गए. भारतीय जनता पार्टी की नेता स्मृति ईरानी ने उन्हें अमेठी में चुनाव हराया, इससे पहले 2014 के चुनाव में स्मृति वहां पर हार चुकी थीं. हालांकि इस बार राहुल गांधी ने सिर्फ अमेठी नहीं बल्कि केरल की वायनाड सीट से भी चुनाव लड़ा था, भले ही राहुल अमेठी से चुनाव हार गए हो लेकिन वायनाड से जीत गए. अमेठी लोकसभा सीट गांधी परिवार की पारंपरिक सीट मानी जाती है, यहां से संजय गांधी, राजीव गांधी, सोनिया गांधी चुनाव जीत चुके हैं. 2004 से ही राहुल गांधी अमेठी से सांसद थे.

5. बंगाल में खिला कमल

2014 में जब पूरे देश में मोदी लहर चली तो कुछ एक ही राज्य थे जहां पर इसका असर नहीं दिखाई दिया. इनमें बंगाल भी शामिल था लेकिन 2019 में यह तस्वीर पूरी तरह से बदल गई. क्योंकि बंगाल इस बार पूरी तरह भगवामय हो गया था. बंगाल की 42 लोकसभा सीटों में से 18 लोकसभा सीटों पर भारतीय जनता पार्टी ने जीत दर्ज की जबकि ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस सिर्फ 22 सीटों पर सिमट गई. भारतीय जनता पार्टी का बंगाल में वोट प्रतिशत भी काफी बढ़ा जो आने वाले विधानसभा चुनाव के लिए ममता बनर्जी की सबसे बड़ी चुनौती माना जा रहा है.

6. राफेल विमान विवाद

कांग्रेस पार्टी की तरफ से 2019 के लोकसभा चुनाव में सबसे बड़ा मुद्दा राफेल विमान विवाद का बनाया गया. तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि राफेल विमान सौदे में गड़बड़ी हुई है और यह गड़बड़ी सीधे तौर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की है. राहुल का आरोप था कि नरेंद्र मोदी ने अनिल अंबानी को फायदा पहुंचाने के लिए इस डील में गड़बड़ की है लेकिन कांग्रेस का यह दांव फेल हो गया.

इस मुद्दे को लेकर राहुल ने जो 'चौकीदार चोर है' का नारा लगाया प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उसी को पलटते हुए 'मैं भी चौकीदार' नारे को लॉन्च कर दिया जो भारतीय जनता पार्टी के लिए 2014 के 'चायवाले' कैंपेन जैसा लागू हुआ. ये विवाद सुप्रीम कोर्ट तक पहुंचा, सुप्रीम कोर्ट की ओर से भी मोदी सरकार को राहत मिली और इस विमान की खरीद प्रक्रिया को सही पाया गया.