बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ बोले- अर्जुन के बाणों में थी परमाणु शक्ति - Politics news of India | Current politics news | Politics news from India | Trending politics news,India News (भारत समाचार): India News,world news, India Latest And Breaking News, United states of amerika, united kingdom

.

Wednesday, January 15, 2020

बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ बोले- अर्जुन के बाणों में थी परमाणु शक्ति

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने मंगलवार को दावा किया कि रामायण काल के दौरान पुष्पक विमान मौजूद था.
बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ बोले
  • राज्यपाल धनखड़ ने कहा- रामायण काल में था पुष्पक विमान
  • 'संजय ने महाभारत का पूरा युद्ध सुनाया, लेकिन टीवी से नहीं'
पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने मंगलवार को दावा किया कि रामायण काल के दौरान 'पुष्पक विमान' मौजूद था. यही नहीं, उन्होंने कहा कि महाभारत काल में अर्जुन के बाणों में परमाणु शक्ति थी.

धनखड़ ने एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा, '20वीं शताब्दी में नहीं है, लेकिन रामायण की अवधि के दौरान हमारे पास उड़ने वाली वस्तुएं (उड़नखटोला) थीं. यानी पुष्पक विमान था.'

इस कार्यक्रम में राज्यपाल ने कहा, 'संजय ने महाभारत का पूरा युद्ध सुनाया, लेकिन टीवी से नहीं. महाभारत में अर्जुन के बाणों में परमाणु शक्ति थी.'

महाभारत में संजय ने कुरुक्षेत्र की लड़ाई से दूर रहने के बाद भी धृतराष्ट्र को आंखों देखा हाल सुनाया था. जबकि संजय के पास कोई दिव्यदृष्टि जैसी कोई शक्ति थी. जगदीप धनखड़ के इस बयान के बाद सोशल मीडिया पर लोगों ने उन्हें ट्रोल किया. हालांकि, साल 2019 के अंतिम दिन भी वो अपने ट्वीट को लेकर ट्रोल हो गए थे.

दरअसल, उन्होंने ट्विटर पर पोस्ट की गई अपनी तस्वीर के साथ लॉर्ड कर्जन द्वारा बंगाल विभाजन के दस्तावेज पर हस्ताक्षर करने के लिए इस्तेमाल की गई मेज को 'ऐतिहासिक' बताया था. राज्यपाल ने ट्वीट कर लिखा, '1905 में लॉर्ड कर्जन ने जिस ऐतिहासिक मेज पर पहले बंगाल विभाजन के दस्तावेजों पर हस्ताक्षर किए थे, उस पर बैठकर ऐतिहासिक राज भवन पुस्तकालय में पश्चिम बंगाल राज्य के लोगों के लिए नए साल का संदेश रिकॉर्ड किया.'

हालांकि, ट्रोल होने के बाद उन्होंने तुरंत एक अन्य ट्वीट किया और कहा कि वह लोगों के एक 'विनम्र सेवक' हैं. उन्होंने लिखा, 'इस कुर्सी पर बैठा व्यक्ति लोगों का विनम्र सेवक है, जिसे संविधान को बनाए रखने और उसकी रक्षा करने तथा पश्चिम बंगाल के लोगों की सेवा करने का आदेश मिला है