जम्मू कश्मीर: राम माधव बोले- हिरासत में लिए गए नेता जिस दिन बाहर आएंगे, शुरू कर देंगे प्रदर्शन - Politics news of India | Current politics news | Politics news from India | Trending politics news,India News (भारत समाचार): India News,world news, India Latest And Breaking News, United states of amerika, united kingdom

.

Wednesday, November 20, 2019

जम्मू कश्मीर: राम माधव बोले- हिरासत में लिए गए नेता जिस दिन बाहर आएंगे, शुरू कर देंगे प्रदर्शन

राम माधव
भाजपा महासचिव राम माधव ने कहा है कि जम्मू कश्मीर में जितनी जल्दी हो सके, राजनीतिक गतिविधियां बहाल होनी चाहिए। जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाए जाने के 100 से अधिक दिन बीतने का जिक्र करते हुए वरिष्ठ भाजपा नेता ने मंगलवार को यह बात कही। जम्मू कश्मीर के मुद्दे पर विभिन्न वर्गों की मांगों पर उन्होंने कहा कि ये मांगें संविधान के दायरे के भीतर होनी चाहिए।
कश्मीर में एहतियातन हिरासत में लिये गए नेताओं को रिहा करने से सरकार को क्या चीज रोक रही है, इस सवाल पर उन्होंने कहा कि चाहे सरकार अपना रुख बताए या न बताए लेकिन इसमें कोई संदेह नहीं कि जिस दिन ये नेता बाहर आ जाएंगे उस दिन वे निश्चित तौर पर प्रदर्शनों का नेतृत्व करेंगे।

'प्रदर्शन हों, लेकिन शांतिपूर्ण और लोकतांत्रिक तरीके से हों'

भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव ने आगे कहा कि वह केंद्र शासित प्रदेश में जल्द से जल्द राजनीतिक गतिविधियों को बहाल करने के पक्ष में हैं। अनुच्छेद 370 हटाने का फैसला हुए 100 दिन हो चुके हैं, तो घाटी में कुछ हद तक राजनीतिक गतिविधियां शुरू होनी चाहिए।

हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि कोई नहीं कहता- प्रदर्शन नहीं होना चाहिए। यह लोकतंत्र है, प्रदर्शन तो होंगे, लेकिन हमें यह भी सुनिश्चित करना होगा कि ये प्रदर्शन लोकतांत्रिक तथा शांतिपूर्ण हों। 

'राजनीतिक गतिविधियां बहाल हों, मैं बहुत उत्सुक हूं'

राम माधव ने कहा कि मैं अपनी पार्टी में भी इसके बारे में बात कर रहा हूं। उम्मीद है कि हम इस बारे में कुछ कर पाएंगे। उन्होंने कहा कि जम्मू में राजनीतिक गतिविधियां सामान्य हो रही हैं।

माधव ने थिंक टैंक ऑब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन (ओआरएफ) द्वारा आयोजित 'अनुच्छेद 370 के बाद कश्मीर’ विषय पर एक चर्चा में कहा कि जब भी पहला अवसर आएगा तो नई तरह की राजनीतिक गतिविधियां बहाल होंगी। मैं बहुत उत्सुक हूं कि अवसर जल्द से जल्द आए।

उन्होंने कहा कि अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से भूतपूर्व राज्य जम्मू कश्मीर में बड़े बदलाव हुए हैं।उन्होंने यह भी स्पष्ट किया कि दिल्ली से कोई नया राजनीतिक वर्ग पैदा नहीं किया जा रहा है