BSNL कर्मचारी भूख हड़ताल पर, जबरन VRS देने का लगाया आरोप - Politics news of India | Current politics news | Politics news from India | Trending politics news,India News (भारत समाचार): India News,world news, India Latest And Breaking News, United states of amerika, united kingdom

.

Monday, November 25, 2019

BSNL कर्मचारी भूख हड़ताल पर, जबरन VRS देने का लगाया आरोप

भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) के कर्मचारी सोमवार को भूख हड़ताल कर रहे हैं. कर्मचारियों ने आरोप लगाया है कि उन्हें डराकर जबरन स्वैच्छ‍िक सेवानिवृत्त‍ि (VRS) लेने के लिए मजबूर किया जा रहा है.
BSNL कर्मचारी भूख हड़ताल पर, जबरन VRS देने का लगाया आरोप
  • VRS के विरोध में भूख हड़ताल पर गए BSNL के कर्मचारी
  • जबरन VRS लेने के लिए मजबूर करने का यूनियन ने लगाया आरोप
  • अब तक कंपनी के 77,000 कर्मचारियों ने वीआरएस सुविधा को चुना है
खस्ताहाल हो चुकी सार्वजनिक कंपनी भारत संचार निगम लिमिटेड (BSNL) के कर्मचारी सोमवार को भूख हड़ताल कर रहे हैं. कर्मचारियों ने आरोप लगाया है कि उन्हें डराकर जबरन स्वैच्छ‍िक सेवानिवृत्त‍ि (VRS) लेने के लिए मजबूर किया जा रहा है. कर्मचारी यूनियनों ने इसके विरोध में सोमवार को पूरे देश के बीएसएनल कर्मचारियों से हड़ताल करने का आह्वान किया है.

क्या है आरोप

जिन यूनियन ने हड़ताल का आह्वान किया है उनसे बीएसएनएल के 50 फीसदी से ज्यादा कर्मचारी जुड़े हैं. उनका आरोप है कि कंपनी प्रबंधन कर्मचारियों को धमकी दे रहा है कि वे रिटायरमेंट की उम्र घटाकर 58 साल स्वीकार कर लें और बहुत से कर्मचारियों को जबरन वीआरएस लेने को मजबूर किया जा रहा है. आल इंडिया यूनियन्स ऐंड एसोसिएशन्स ऑफ भारत संचार निगम लिमिटेड (AUAB) के संयोजक पी अभिमन्यु ने न्यूज एजेंसी पीटीआई से कहा कि जो कर्मचारी वीआरएस नहीं ले रहे हैं, उनका ट्रांसफर काफी दूर कर दिया जा रहा है.

उन्होंने कहा, 'हम वीआरएस का विरोध नहीं कर रहे. जो लोग यह चाहते हैं और उन्हें लगता है कि यह उनके लिए फायदेमंद है, उन्हें इसे चुनना चाहिए. लेकिन यह निचले स्तर के कर्मचारियों के लिए फायदेमंद नहीं है, जबकि उन्हें भी वीआरएस लेने या 58 साल की रिटायरमेंट एज स्वीकार करने पर मजबूर किया जा रहा है. यह तो जबरन रिटायर करने की योजना है.'

भूख हड़ताल का नोटिस देने वाली यूनियनों का आरोप है कि जिन लोगों ने वीआरएस का चुनाव किया है उन्हें पेंशन विनिमय की सुविधा भी नहीं मिलेगी. यह सुविधा 60 साल की उम्र पूरी होने पर ही मिलती है, जिसके तहत अगले 15 साल में मिलने वाली पेंशन का एक-तिहाई हिस्सा एडवांस में मिल जाता है. यही नहीं, जो लोग वीआरएस ले रहे हैं, उन्हें तीसरे वेतन संशोधन का भी फायदा नहीं मिलेगा.

अभिमन्यु ने कहा कि यदि मैनेजमेंट कर्मचारियों को धमकाना बंद करे तो वीआरएस चुनने वाले कर्मचारियों की संख्या काफी घट जाएगी.

किसको मिल रही वीआरएस

गौरतलब है कि BSNL के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर पी.के. पुरवार ने बताया था कि कंपनी के 1.6 लाख में से 77,000 कर्मचारियों ने वीआरएस सुविधा का चुनाव किया है. योजना के मुताबिक 50 साल की उम्र को पूरा कर चुके बीएसएनएल के सभी नियमित और स्थायी कर्मचारियों को वीआरएस चुनने का अधिकार है. इसे जहां कई कर्मचारी लाखों रुपये लेकर निकल रहे हैं, वही बीएसएनएल को भी वेतन के मद में करीब 7,000 करोड़ रुपये बचने की उम्मीद है.

क्‍या है वीआरएस योजना में?

50 साल की आयु पूरी कर चुके या उससे अधिक उम्र के बीएसएनएल के सभी नियमित और स्थायी कर्मचारी वीआरएस के लिए आवेदन देने के पात्र हैं. इसमें वे कर्मचारी भी शामिल हैं जो बीएसएनएल के बाहर दूसरे संगठन में प्रतिनियुक्ति आधार पर काम कर रहे हैं. वहीं बीएसएनएल की वीआरएस योजना के तहत मिलने वाली रकम की बात करें तो 53.5 वर्ष से अधिक आयु के कर्मचारियों को उनके वेतन का 125 फीसदी मिलेगा.

इसी तरह 50 से 53.5 साल के आयु वाले कर्मचारियों को उनके उतने वेतन का 80 से 100 फीसदी तक भुगतान किया जाएगा, जिसे वह अपनी सर्विस की शेष अवधि में हासिल कर सकते हैं. वीआरएस का चयन करने पर 55 वर्ष से अधिक आयु के कर्मचारियों की पेंशन तभी शुरू की जाएगी जब वे 60 साल पूरे कर लेंगे. इस योजना की प्रभावी तारीख 31 जनवरी 2020 है.