बंगाल में BJP को बड़ा झटका, मोदी कैबिनेट से हटाए जाने के बाद बाबुल सुप्रियो ने राजनीति से लिया संन्यास - Politics news of India | Current politics news | Politics news from India | Trending politics news,India News (भारत समाचार): India News,world news, India Latest And Breaking News, United states of amerika, united kingdom

.

Saturday, July 31, 2021

बंगाल में BJP को बड़ा झटका, मोदी कैबिनेट से हटाए जाने के बाद बाबुल सुप्रियो ने राजनीति से लिया संन्यास

हाल ही में मोदी कैबिनेट से हटाए गए आसनसोल से बीजेपी के सांसद बाबुल सुप्रियो ने राजनीति और सांसद का पद छोड़ने का ऐलान किया है। हालांकि, उन्होंने यह भी कहा है कि वह सिर्फ बीजेपी को पसंद करते हैं और वह किसी और पार्टी में नहीं शामिल होने जा रहे हैं। पूर्व पर्यावरण राज्य मंत्री बाबुल सुप्रियो ने यह भी कहा है कि उनके इस फैसले का संबंध मंत्रिमंडल से हटाए जाने से है। पिछले दिनों जब उन्हें कैबिनेट से हटाया गया था तो उन्होंने ट्वीट करके कहा था कि वह अपने लिए दुखी हैं।

राजनीति में आने से पहले गायक के रूप में फेमस बाबुल ने फेसबुक पर एक लंबा पोस्ट लिखते हुए कहा कि उन्होंने पिछले कुछ दिनों में अमित शाह और जेपी नड्डा को राजनीति छोड़ने के फैसले के बारे में बता दिया था। उन्होंने लिखा, ''मैं उनका आभारी हूं कि उन्होंने मुझे कई मायनों में प्रेरित किया है। मैं उनके प्यार को कभी नहीं भूलूंगा।'' 2014 में बीजेपी में शामिल होने के बाद दो बार आसनसोल से सांसद बने बाबुल ने आगे लिखा, ''सवाल उठेगा कि मैंने राजनीति क्यों छोड़ी? मंत्रालय के जाने से इनका कोई लेनादेना है क्या? हां वह है- कुछ लोगों के पास होना चाहिए! चिंता नहीं करना चाहते हैं तो अगर वह सवाल का जवाब देगी तो सही होगा- इससे मुझे भी शांति मिलेगी।''

बाबुल सुप्रियो ने कहा है कि 2014 और 2019 में काफी अंतर है। तब वह बीजेपी के टिकट पर अकेले थे, लेकिन आज बंगाल में बीजेपी मुख्य विपक्षी दल है। उन्होंने राज्य ईकाई से कुछ मतभेद की ओर भी इशारा किया है, लेकिन यह भी कहा है कि पार्टी यहां से एक लंबा सफर तय करेगी।

बाबुल सुप्रियो ने लिखा, ''चुनाव से पहले राज्य नेतृत्व के साथ कुछ मुद्दे थे- यह हो सकता है लेकिन उनमें से कुछ सार्वजनिक रूप से आ रहे थे। कहीं न कहीं मैं इसके लिए जिम्मेदार हूं (फेसबुक पोस्ट किया जो पार्टी अराजकता के स्तर में गिरता है) फिर से कहीं और नेता भी बहुत जिम्मेदार हैं, हालांकि मैं नहीं जाना चाहता कि कौन जिम्मेदार है- लेकिन पार्टी की असहमति और वरिष्ठ नेताओं की असहमति से नुकसान हो रहा था, 'ग्राउंड जीरो' में भी पार्टी कार्यकर्ताओं के हौसले को किसी भी मदद नहीं कर रहा था। 'रॉकेट साइंस' ज्ञान की आवश्यकता नहीं है। इस समय यह पूरी तरह से अप्रत्याशित है इसलिए आसनसोल की जनता को अनंत आभार और प्यार देकर दूर जा रहा हूं।

पढ़ें उनका पूरा पोस्ट

मैं तो जा रहा हूँ..
Alvida…
सब की बातें सुनी.. बाप, (माँ) पत्नी, बेटी, दो प्यारे दोस्त.. सब सुनकर कहता हूँ मैं किसी और पार्टी में नहीं जा रहा.. #TMC, #Congress, #CPIM, कहीं नहीं - पुष्टि, कोई मुझे फोन नहीं किया, मैं भी कहीं नहीं जा रहा हूँ 😊 मैं एक टीम का खिलाड़ी हूँ! हमेशा एक टीम का समर्थन किया है #MohunBagan - सिर्फ पार्टी की है BJP West Bengal!! That ' s it!!
मैं तो जा रहा हूँ...

'कुछ देर रुके रहे'.. कुछ मन रखा और कुछ टूट गए.. कहीं काम से खुश हो गए, कहीं निराश | तुम मूल्यांकन नहीं करोगे 😊
' मेरे ' मन ' में उठते सभी सवालों के जवाब देने के बाद कह रहा हूँ.. मैं इसे अपने तरीके से कह रहा हूँ..
मैं जा रहा हूँ... 👋

सामाजिक कार्य करना है तो बिना राजनीति के भी कर सकते हैं - चलो थोड़ा पहले खुद को संगठित करते हैं फिर...
मैंने पिछले कुछ दिनों में माननीय अमित शाह और माननीय नद्दाजी को राजनीति छोड़ने का संकल्प लिया है मैं उनका आभारी हूँ कि उन्होंने मुझे कई मायनों में प्रेरित किया है |
मैं उनके प्यार को कभी नहीं भूलूंगा और इसलिए मैं उन्हें फिर से वही चीज नहीं दिखा सकता 🙏 विशेष रूप से जब मैंने फैसला किया है कि 'मेरा मैं' क्या करना चाहता है || इसलिए फिर से वही कहीं जब मैं दोहराने जाता हूं शब्द, वे सोच सकते हैं कि मैं एक ' स्थिति ' के लिए ' सौदेबाजी ' कर रहा हूँ | और जब यह सच नहीं है, तो वे नहीं चाहते कि ' संदेह ' उनके दिमाग से दूर हो जाए - एक पल के लिए भी |

मैं प्रार्थना करता हूँ कि वे मुझे गलत नहीं समझते हैं, मुझे माफ कर दें |
अब और कुछ खास नहीं कहूंगा अब ' तुम कहोगे मैं सुनूंगा दिन में, ' शाम में ' 😊
लेकिन मुझे एक सवाल का जवाब देना होगा क्योंकि यह सही है! सवाल उठेगा कि मैंने राजनीति क्यों छोड़ी? मंत्रालय के जाने से इनका कोई लेना देना है क्या? हाँ वहाँ है - कुछ लोगों के पास होना चाहिए! चिंता नहीं करना चाहते हैं तो अगर वह सवाल का जवाब देगी तो सही होगा-इससे मुझे भी शांति मिलेगी |

2014 और 2019 के बीच बड़ा अंतर |

तब भाजपा के टिकट में मैं अकेला था (अहलुवालियाजी के सम्मान में - दार्जिलिंग सीट में जीजेएम भाजपा का सहयोगी था) लेकिन आज बंगाल में भाजपा मुख्य विपक्षी दल है । आज पार्टी में कई नए चमकीले युवा तुर्की नेता उतने ही पुराने हैं. जितने पुराने नेता भी हैं. कहने की जरूरत नहीं है कि उनके नेतृत्व में पार्टी यहां से एक लंबा सफर तय करेगी । कहने में कोई संकोच नहीं कि आज पार्टी में एक भी व्यक्ति नहीं होना बड़ी बात है फिर भी यह स्पष्ट है कि सही निर्णय मेरा होगा । मजबूत, मजबूत विश्वास!

एक और बात.. चुनाव से पहले राज्य नेतृत्व के साथ कुछ मुद्दे थे - यह हो सकता है लेकिन उनमें से कुछ सार्वजनिक रूप से आ रहे थे | कहीं न कहीं मैं इसके लिए जिम्मेदार हूं (फेसबुक पोस्ट किया जो पार्टी अराजकता के स्तर में गिरता है) फिर से कहीं और नेता भी बहुत जिम्मेदार हैं, हालांकि मैं नहीं जाना चाहता कि कौन जिम्मेदार है - लेकिन पार्टी की असहमति और वरिष्ठ नेताओं की असहमति से नुकसान हो रहा था, 'ग्राउंड जीरो' में भी पार्टी कार्यकर्ताओं के हौसले को किसी भी मदद नहीं कर रहा था रास्ता । 'रॉकेट साइंस' ज्ञान की आवश्यकता नहीं है | इस समय यह पूरी तरह से अप्रत्याशित है इसलिए आसनसोल की जनता को अनंत आभार और प्यार देकर दूर जा रहा हूँ |

माना नहीं कि मैं कहीं गया था - मैं 'खुद' के साथ था - इसलिए आज कहीं वापस जा रहा हूँ मैं कुछ नहीं कहूँगा |

कई नए मंत्रियों को अभी तक सरकारी मकान नहीं मिला है इसलिए मैं एक महीने में अपना घर छोड़ दूंगा (जितनी जल्दी हो सके - शायद उससे पहले) |

नहीं, मैं इसे अब और नहीं लूंगा |

आसमान में स्वामी रामदेवजी से फ्लाइट पर छोटी सी बातचीत हुई । बिल्कुल अच्छा नहीं लगा जब पता चला कि बंगाल को बीजेपी बहुत गंभीरता से ले रही है, सत्ता से लड़ेगी लेकिन शायद सीट की उम्मीद नहीं । ऐसा लगा जैसे बंगाली श्यामाप्रसाद मुखर्जी, अटल बिहारी वाजपेयी इतना. कैसे वो बंगाली जो सम्मान, प्यार करता है वो भाजपा को एक सीट पर नहीं जीतेगा!!! खासकर जब पूरा भारत वोट देने से पहले ये तय कर ले कि उनके लायक उत्तराधिकारी नरेंद्र मोदी होंगे Next PM of India, बंगाल अलग क्यों सोचेंगे | चुनौती को बंगाली के रूप में लेना था उस समय, इसलिए मैंने सबको सुना लेकिन जो महसूस किया वो किया - अनिश्चितता से डरे बिना, जो सही सोचा वो किया, साथ में 'दिल-जान' |

स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक की नौकरी छोड़कर मुंबई जाते समय 1992 में भी यही किया था, आज वही किया!!!
मैं तो जा रहा हूँ..
हाँ, कुछ शब्द रह गए हैं..
शायद कभी कहेंगे..
आज मैं वहां नहीं हूँ या कह रहा हूँ..
मैं तो जा रहा हूँ..