थोड़ी देर में नागरिकता संशोधन विधेयक पेश करेंगे शाह, शिवसेना करेगी समर्थन - Politics news of India | Current politics news | Politics news from India | Trending politics news,India News (भारत समाचार): India News,world news, India Latest And Breaking News, United states of amerika, united kingdom

.

Tuesday, November 12, 2019

थोड़ी देर में नागरिकता संशोधन विधेयक पेश करेंगे शाह, शिवसेना करेगी समर्थन

थोड़ी देर में नागरिकता संशोधन विधेयक पेश करेंगे शाह, शिवसेना करेगी समर्थन
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह लोकसभा पहुंच गए हैं। वह दोपहर 12 बजे लोकसभा में नागरिकता संशोधन विधेयक पेश करेंगे। सड़क से लेकर संसद तक इसका विरोध हो रहा है। वहीं राज्यसभा में दिल्ली के अनाज मंडी में लगी आग का मुद्दा उठाया। भाजपा सांसद विजय गोयल ने कहा कि उपहार कांड से भी कोई सीख नहीं ली गई। वहीं आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह ने कहा कि इसपर राजनीति नहीं होनी चाहिए।

मनीष तिवारी ने शिक्षा ऋण पर पूछा सवाल

कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी ने लोकसभा में शिक्षा ऋण की माफी के सवाल पर कहा, 'बेरोजगारी की दर आज 45 साल के उच्चतम स्तर पर है। वर्तमान आर्थिक मंदी को देखते हुए, सरकार केंद्रीय डेटाबेस को बनाए रखने पर विचार करेगी, जहां उन्हें जानकारी हो कि किसी व्यक्ति ने प्राइमरी का मास्टर शिक्षा ऋण का लाभ उठाया है या नहीं?'
नागरिकता विधेयक का समर्थन करेगी शिवसेना

सामना के जरिए शिवसेना ने इस बात के संकेत दिए हैं कि वह इस विधेयक को लेकर सरकार का समर्थन करेगी। हालांकि उसने इसमें बदलाव की मांग की है। शिवसेना सांसद संजय राउत ने पूछा है कि क्या कश्मीरी पंडित वापस कश्मीर जा पाएंगे। उनका कहना है कि अप्रवासी हिंदुओं को नागरिकता दी जानी चाहिए।
बदरुद्दीन अजमल ने किया विरोध

असम के धुबरी से लोकसभा सांसद बदरुद्दीन अजमल ने नागरिक संशोधन विधेयक पर कहा, 'यह विधेयक संविधान और हिंदू-मुस्लिम एकता के खिलाफ है। हम इस विधेयक को खारिज करते हैं और इस मामले में विपक्ष हमारे साथ है। हम इस विधेयक को पास नहीं होने देंगे।' वहीं उनकी पार्टी एआईयूडीएफ जंतर-मंतर पर बिल के विरोध में प्रदर्शन कर रही है।

नागरिकता विधेयक के समर्थन में आई एआईएडीएमकेएआईएडीएमके नागरिकता संशोधन विधेयक के समर्थन में आ गई है। पार्टी के राज्यसभा में 11 सांसद हैं।

क्या है नागरिकता संशोधन विधेयकइस बिल के पारित होते ही छह दशक पुराना नागरिकता कानून-1955 बदल जाएगा और तीन पड़ोसी देशों पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानस्तिान से आने वाले गैरमुस्लिम शरणार्थियों को भारतीय नागरिकता देने की प्रक्रिया बेहद सहज हो जाएगी। सरकार की योजना सोमवार को लोकसभा में यह बिल पारित कराने के बाद मंगलवार को राज्यसभा में भी इस पर मंजूरी की मुहर लगवा लेने की है।